StarLink सैटेलाइट सर्विस क्या है, इसकी प्राइस और इंटरनेट स्पीड कैसी है

StarLink सैटेलाइट सर्विस क्या है, इसकी प्राइस और इंटरनेट स्पीड कैसी है

नमस्कार दोस्तों, आज हम हमारी इस पोस्ट के माध्यम से आपको StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस के ऑनलाइन आवेदन के बारे में बताएंगे। StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस क्या है, यह कैसे काम करता है, आप स्टारलिंक इंटरनेट सर्विस के लिए प्री ऑर्डर कैसे कर सकते हैं, और एलन मस्क की StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस भारत में कब तक देखने को मिल सकती है। 

अगर आपको इसके बारे में कोई विशेष जानकारी नहीं है, तो आप हमारी इस पोस्ट को ध्यान पूर्वक पढ़ते रहिए। हम आपको हमारी इस पोस्ट के माध्यम से StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस के बारे में संपूर्ण जानकारी प्रदान करने वाले हैं। 

अपने अविश्वसनीय इनोवेशन के लिए मशहूर और दुनिया के सबसे अमीर बिजनेसमैन एलन मस्क ने सेटेलाइट से इंटरनेट पहुंचाने के लिए स्टारलिंक सर्विस को शुरू किया है। इस स्टारलिंक सर्विस के लिए प्री रजिस्ट्रेशन भी शुरू हो गया है। 

एलन मस्क की कंपनी स्पेस-X अपनी इस स्टारलिंक सर्विस को भारत में अगले साल 2022 में शुरू कर सकती है। इसके लिए प्री रजिस्ट्रेशन भी शुरू कर दिया गया है, इसमें प्री रजिस्ट्रेशन के लिए यूजर्स को 99 डॉलर (करीब 7,265 रुपये) का रिफंडेबल पेमेंट करना होगा। 

स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट क्या है - 

स्पेस-X कंपनी द्वारा लोगों को सेटेलाइट के माध्यम से हाई स्पीड इंटरनेट सर्विस प्रोवाइड करने के लिए स्टारलिंक प्रोजेक्ट को शुरू किया गया है। इस प्रोजेक्ट में लो अर्थ आर्बिट में हजारों सेटेलाइट को लॉन्च किया गया है, जो आसमान में पृथ्वी के चारों तरफ स्टार की आकृति बनाते हैं। इन सेटेलाइट से पृथ्वी पर उन सभी इलाकों में इंटरनेट सर्विस उपलब्ध कराई जा सकेगी ,जहां पर 4G या ब्रॉडबैंड सर्विस उपलब्ध नहीं है। 

Starlink प्रोजेक्ट में सैटेलाइट के के माध्यम से दुनिया के किसी भी कोने में आसानी से इंटरनेट सर्विस को पहुंचाया जा सकता है। यह Starlink इंटरनेट सर्विस एक सैटेलाइट इंटरनेट का जाल है, जिसमें हज़ारों छोटे सैटेलाइट शामिल है, जो पृथ्वी पर ट्रांसवर्स से जुड़े होते हैं। 

इस प्रोजेक्ट को विश्व के कई बड़े शहरों में सफलतापूर्वक शुरू भी कर दिया गया है। और अब 2022  तक इसे भारत में भी शुरू किया जाने वाला है। 

StarLink की इंटरनेट स्पीड- 

अभी फिलहाल लोगों को ब्रॉडबैंड इंटरनेट सर्विस में 594 से 612 ms रेंज की मीडियम लेटेंसी मिलती है। लेकिन स्पेस-X के अनुसार स्टारलिंक सेटेलाइट इंटरनेट सर्विस से लेटेंसी को 20 से 40 ms तक कम कर दिया गया है। अमेरिका में शुरू हुई इस स्टारलिंक इंटरनेट सर्विस की बीटा टेस्टिंग में यूजर्स को 150Mbps तक की स्पीड मिल रही है। 

स्टारलिंक इंटरनेट सर्विस का इस्तेमाल करने के लिए यूजर्स को स्टारलिंक किट को सेट अप करना पड़ता है। जिसमें टर्मिनल, राउटर और सैटेलाइट कनेक्शन के लिए ट्राइपॉड आदि शामिल है। दुनियाभर के अभी यूजर्स को सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस से जोड़ने के लिए स्पेस-X ने अंतरिक्ष में 12,000 सैटेलाइट्स को लॉन्च किया। 

अभी तक फिलहाल स्पेस-X कंपनी 1000 से ज्यादा छोटे सैटेलाइट को स्टारलिंक प्रोजेक्ट के तहत अंतरिक्ष में लॉन्च कर चुकी है। सैटेलाइट इंटरनेट में ब्रॉडबैंड इंटरनेट की तरह की वायरिंग और केबल की जरूरत नहीं पड़ती है। इसलिए सैटेलाइट इंटरनेट से विश्व के किसी भी कोने के सुदूर क्षेत्रों तक भी हाई स्पीड इंटरनेट को पहुंचाया जा सकता है। 

भारत में StarLink सर्विस - 

भारत के सभी राज्यों की भौगोलिक स्थिति अलग-अलग है, और इन राज्यों में बहुत सी ऐसी जगह है। जहां पर इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं है, और वहां पर मोबाइल टावर के माध्यम से भी इंटरनेट की सुविधा उपलब्ध नहीं कराई जा सकती है। 

वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम (WEF) की हाल ही की रिपोर्ट के अनुसार अगस्त 2020 तक भारत में 50 प्रतिशत लोगों के पास इंटरनेट सर्विस का एक्सेस नहीं है। इसलिए इन सभी क्षेत्रों में सैटेलाइट इंटरनेट के माध्यम से इंटरनेट सर्विस को उपलब्ध कराया जा सकता है।

 भारत के अलावा दुनिया के और भी बहुत से देशों  के अलग-अलग क्षेत्रों में अभी तक इंटरनेट सर्विस उपलब्ध नहीं है। इस कारण से स्पेस-X अपने स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट प्रोजेक्ट से ऐसे देशों में यूजर्स तक इंटरनेट सर्विस को पहुंचाना चाहता है।

StarLink के लिए कैसे प्री ऑर्डर करें -

स्टारलिंक को अब भारत में भी प्री-ऑर्डर किया जा सकता है, और प्री-ऑर्डर की कीमत 99 डॉलर यानी लगभग 7,200 रुपये रखी गई है। यूज़र्स Starlink की वेबसाइट के प्री-ऑर्डर वाले पेज में अपना एड्रेस डाल कर अपने क्षेत्र में स्टारलिंक सर्विस की उपलब्धता की जांच कर सकते हैं। 

स्टारलिंक वेबसाइट पर जाने के बाद आपको अपने क्षेत्र का नाम डालना है, और ' Order Now ' पर क्लिक करना है। इसके बाद आपके सामने आपके क्षेत्र पर स्टार लिंक सर्विस की उपलब्धता की जानकारी आ जाएगी। लेकिन अभी फिलहाल भारत के लगभग सभी राज्यों में Starlink इंटरनेट सर्विस की शुरुआत 2022 में की जाएगी। 

StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस में प्री ऑर्डर के लिए पेमेंट करने से पहले आपका नाम, फोन नंबर, ईमेल और बिलिंग एड्रेस जैसी जानकारियों को Fill होगा। इसके बाद ' Place Deposit ' पर क्लिक करके पेमेंट किया जा सकता है और यह पेमेंट पूरी तरह से रिफंडेबल है। इसे बाद में वापस भी रिफंड किया जा सकता है। 

सैटेलाइट इंटरनेट पर कार्यरत भारतीय कंपनी - 

एलन मस्क की कंपनी स्पेस-X के अलावा ह्यूगस इंडिया भी भारत में सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस शुरू करने के प्रोजेक्ट पर काम कर रही है। इसके लिए ह्यूगस इंडिया कंपनी ने ISRO के साथ मिलकर सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस के प्रोजेक्ट पर काम करना शुरू कर दिया है। 

इस सैटेलाइट इंटरनेट प्रोजेक्ट से लद्दाख, अरुणाचल प्रदेश, मिजोरम, त्रिपुरा और मणिपुर जैसे राज्यों के 5,000 गांवों को सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस से जोड़ा जाएगा। इन दूरदराज के गांव में में ISRO के GSAT-19 और GSAT-11 सैटेलाइट का इस्तेमाल करके सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस पहुंचाई जाएगी। इसके अलावा 2022 में एयरटेल भी सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस शुरू कर सकती है।

StarLink सर्विस वाले देश - 

अभी कुछ ऑनलाइन रिपोर्ट्स के अनुसार अमेरिका ऑस्ट्रेलिया और मेक्सिको जैसे देशों के कुछ शहरों और गांवों में स्टार लिंक सर्विस को शुरू किया गया है। इन देशों में यूजर्स को स्टार लिंक कनेक्शन किट के लिए 499 डॉलर (लगभग 36,400 रुपये) और इसके साथ ही प्रति माह 99 डॉलर रेंटल भी देना पड़ता  है। 

इसके अलावा U.K (यूनाइटेड किंगडम) में ग्राहकों को स्टारलिंक सेटेलाइट इंटरनेट सर्विस के लिए हर महीने £89 (लगभग 9,000 रुपये) देने पड़ते हैं। स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट कनेक्शन के समय किट के लिए £439 (लगभग 44,600 रुपये) का पेमेंट करना पड़ता है।

 इस सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस की किट में स्टारलिंक के साथ-साथ वाई-फाई राउटर, पावर सप्लाई, केबल और माउंटिंग ट्राइपॉड दिया जाता है। 

निष्कर्ष 

हमने आपको आज की पोस्ट के माध्यम से StarLink सैटेलाइट इंटरनेट के बारे में बताया है, कि StarLink सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस क्या है, और आपको भारत मे यह स्टारलिंक सैटेलाइट इंटरनेट सर्विस कब तक देखने को मिल सकती । इसी प्रकार के टेक्नोलॉजी से रिलेटेड और अधिक जानकारी पाने के लिए हमारी वेबसाइट के साथ जुड़े रहे।

Post a Comment

0 Comments